नैमीषारण्य का बड़े पैमाने पर पर्यटन विकास होगा : पर्यटन मंत्री - प्रणाम पर्यटन - पहले पढ़ें, फिर घूमें

प्रणाम पर्यटन - पहले पढ़ें, फिर घूमें

पत्रिका ही नहीं,दस्तावेज़ भी

a

Post Top Ad

सोमवार, 9 जनवरी 2023

नैमीषारण्य का बड़े पैमाने पर पर्यटन विकास होगा : पर्यटन मंत्री


मथुरा एवं आगरा हेलीपोर्ट अगले दो माह में तैयार होंगे : जयवीर सिंह

लखनऊः 09 जनवरी(ब्यूरो) उत्तर प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने कहा कि भारत में आने वाला विदेशी सैलानी का सबसे पहला कदम उ0प्र0 की ओर बढ़े, इसके लिए टेªड टेक्नोलॉजी एवं टूरिज्म (3टी) पर जोर दिया जा रहा है। इसके अतिरिक्त रेल, वाटर तथा एयर कनेक्टिविटी का विस्तार करके पर्यटकों को उ0प्र0 के ऐतिहासिक, धार्मिक एवं पौराणिक महत्व के विश्व प्रसिद्ध स्थलों की ओर आकर्षित करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पर्यटन सेक्टर एक ऐसा सेक्टर है जिसमें रोजगार सृजन की असीमित संभावनायें हैं। इसको दृष्टिगत रखते हुए मा0 योगी जी के नेतृत्व में उ0प्र0 को नये सिरे से सजाया और सवारा जा रहा है।

पर्यटन मंत्री सोमवार को स्थानीय गोमती होटल में पत्रकारों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 की अर्थव्यवस्था तेजी से आगे बढ़ रही है, जिसके माध्यम से वन ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को प्राप्त कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 देश का ग्रोथ इंजन बनने की ओर अग्रसर है और इसमें पर्यटन सेक्टर का अधिकतम योगदान होगा। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 में कानून व्यवस्था में सुधार एवं उच्च स्तरीय अवस्थापना सुविधाओं के विकास के कारण ही उ0प्र0 सैलानियों के लिए पहली पसंद बनता जा रहा है। उन्होंने इस मौके पर वर्ष-2023 के कैलेण्डर का विमोचन भी किया।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि देशी-विदेशी सैलानियों के लिए नयी पर्यटन नीति-2022 जारी की गयी है। नैमीषारण्य के पर्यटन विकास के लिए नैमीषारण्य तीर्थ विकास बोर्ड की घोषणा करने के साथ ही ईको टूरिज्म बोर्ड की स्थापना के अलावा विभिन्न थिरैपी को विकसित किया गया है। राजस्थान की तर्ज पर बुन्देलखण्ड के किलों, महलों एवं गढ़ी को पीपीपी माडल पर विकसित करके सैलानियों को किला में ठहरने जैसी अनुभूति का अवसर प्रदान करने का निर्णय लिया गया है।

श्री जयवीर सिंह ने कहा कि दिल्ली से आने वाले सैलानियों को उ0प्र0 के मथुरा, आगरा, वृन्दावन एवं फतेहपुर सीकरी जैसे ऐतिहासिक स्थलों की सैर के लिए आगरा, मथुरा में हेलीपोर्ट का निर्माण दो-तीन महीने में पूरा करा लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि उ0प्र0 आने वाला पर्यटक कम से कम चार दिन प्रवास करे, जिससे होटल, टैक्सी, फूल वालों एवं हस्तशिल्प जैसे कारोबार को बढ़ावा मिल सके। उन्होंने कहा कि यहां से बुन्देलखण्ड के रमणीक एवं ऐतिहासिक स्थलों को दिखाने के लिए बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे की सेवायें प्राप्त होगी। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 नये प्रदेश के रूप में विकसित हो रहा है। यहां पर पर्यटकों के पसंद की हर चीज उपलब्ध कराने का प्रयास किया जा रहा है।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि अभी हाल में ही मंत्रियों का समूह विभिन्न देशों के भ्रमण पर निवेश जुटाने गया था इसके दौरान बड़ी संख्या में एमओयू हस्ताक्षरित किये गये। जिसमें पर्यटन के कई एमओयू शामिल हैं, इसके अलावा मा0 मुख्यमंत्री जी के मुम्बई में निवेश भ्रमण के दौरान निवेशकों ने यूपी में पर्यटन क्षेत्र में विशेष दिलचस्पी दिखाई है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 के बाद दुनिया का दृष्टिकोण उ0प्र0 को लेकर बदला है। 2017 से पहले उ0प्र0 को एक बीमारू राज्य की पहचान मिली थी। कानून व्यवस्था के मामले में यह एक फेल स्टेट कहा जाता था, जिससे निवेशक एवं पर्यटक उ0प्र0 आने से कतराते थे।

श्री जयवीर सिंह ने कहा कि अब दुनिया के सामने एक नया उ0प्र0 तैयार है जहां विकास के साथ उच्च स्तर की कानून व्यवस्था कायम हुई है। इस्पेक्टर राज, भ्रष्टाचार एवं लालफीता शाही को समाप्त करके निवेशकों एवं सैलानियों की पसंद का प्रदेश बना है। प्रवासी भारतीय और निवेशक उ0प्र0 में दिलचस्पी ले रहे हैं। यह सब बदलाव मा0 प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी जी के कारण आया है। उन्होंने कहा कि आज का उ0प्र0 विकास के मामले में बहुत आगे है। यह पूरी तरह दंगामुक्त हो चुका है। उन्होंने कहा कि निवेशकों एवं पर्यटकों के लिए 25 इण्डस्ट्रियल सेक्टोरल पालिसी तैयार की गयी है, जिसके अंतर्गत निवेशकों को बड़ी छूट एवं सुविधाओं का प्राविधान किया गया है।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि पर्यटकों के लिए विभिन्न टूरिज्म सर्किट विकसित किये गये हैं। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 के नये रूप को लेकर विदेशों में काफी चर्चा है। काशी विश्वनाथ का दर्शन करने वाले पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं की संख्या में कई गुना बढ़ोत्तरी हुई है। एक वर्ष में 07 करोड़ पर्यटक काशी पहुंचे हैं। इसी से प्रेरणा लेकर प्रदेश में पर्यटन सेक्टर को नये सिरे से सजाया एवं संवारा जा रहा है। यूपीजीआईएस-2023 में बड़ी संख्या में पर्यटकों एवं निवेशकों के आने की संभावना है। इसी प्रकार जी-20 की बैठकों के दौरान भारी संख्या में सैलानी एवं विदेशी राष्ट्राध्यक्षों के स्वागत एवं उ0प्र0 की विशिष्टताओं को दुनिया के समक्ष प्रस्तुत करने का अवसर है। पर्यटन विभाग इसके लिए जोर-शोर से तैयारी कर रहा है।

इस अवसर पर प्रमुख सचिव पर्यटन श्री मुकेश मेश्राम, विशेष सचिव संस्कृति श्री ए0के0 सिंह, पर्यटन सलाहकार श्री जयप्रकाश सिंह तथा उपनिदेशक पर्यटन श्री कल्याण सिंह आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad

DdbfCubDgGi7BKGsMdi2aPk2rf_hNT4Y81ALlqPAsd6iYXCKOZAfj_qFGLoe2k1P.jpg